Pageviews past week

Sunday, April 23, 2017

My more than Indian experience!

अपने ही विचारों की अभिव्यक्ति का कोई बेहतर  तरीका है वो है ब्लॉगिंग और ब्लॉग को ज्यादा से ज्यादा लोगों के पास पहुँचाने के लिए बेहतर मंच है इंडीब्लॉगर। यह एक ऐसी वेबसाइट है जहाँ हम अपने ब्लॉग की पोस्ट को शेयर करते हैं दूसरों के ब्लॉग की पोस्ट और उनके वीडिओ देख पाते हैं, एक दुसरे के साझा किये हुए विचारों पर अपने विचार व्यक्त का कर पाते हैं।


मैंने जब अपना ब्लॉग लिखना शुरू किया था उसी समय किसी और के द्वारा इंडीब्लॉगर के लिए बताने पर मैंने भी इसे ज्वाइन किया।
ज्यादा से ज्यादा लोगों के संपर्क में हम सब आ पाएं इसके लिए समय-समय पर इंडीब्लॉगर की ओर से मीटिंग्स भी आयोजित की जाती रही हैं. मुझे इंडीब्लॉगर के संपर्क में आये हुए दो से ढाई वर्ष हुए हैं, मुझे अपने आप को और अपने व्यक्तित्व को संवारने में इंडीब्लॉगर का काफी योगदान है।
कल जब मैंने इंडी पेज खोला तो पाया यहाँ एक प्रतियोगिता आयोजित  की गयी है, इस पेज पर पहली बार कोई प्रतियोगिता मेरे सामने आयोजित की गयी है और जब इसका सब्जेक्ट देखा तो बहुत ख़ुशी हुई की मुझे सच में अपने अनुभव को पेश करने का इससे बेहतर तरीका कोई और हो ही नहीं सकता था। मैं सोचती थी कभी किसी प्रतियोगिता में आपके सफर के बारे में भी लिखने का अवसर मिलेगा।
यहाँ मैं अपना अनुभव लुफ्तांशा एयरलाइन्स का प्रस्तुत करने जा रही हूँ, यह मेरा सौभाग्य था, कि मैंने इस एयरलाइन्स में सफर करने का अनुभव  प्राप्त किया।

बात आज से करीब नौ-दस महीने पहले की है मेरी ननद जो की जर्मनी के म्यूनिख शहर में रहती है, उनके बेटे का विवाह होने को था और हमारा जाना भी जरूरी था, जब करीबी रिश्तों की बात आती है तब पैसा और समय मायने नहीं रखता सो जाना तो जरूर था, मुझे याद है जब वो शादी के बाद अपने पति के साथ वहां शिफ्ट हुई और फिर पहली बार इंडिया आयी थी तो बेटे के लिए प्ले-स्टेशन लायी तो ख़ुशी का ठिकाना न था। खैर शादी में जाना था और तैयारी भी करनी थी तो यादों को दरकिनार कर जाने की तैयारी के बारे में बात शुरू हुई।
उधर से नन्द ने वीज़ा आदि की प्रकिर्या पूरी करा दी थी। अब मुझे टिकट और अपने सफर की बाकि तैयारी करनी थी। अब मेरे लिए दो समस्याएं थीं कारण मैं हिचक रही थी एक तो भाषा और दूसरा भोजन, मैं पूरी तरह से वेजिटेरिअन हूँ।
यहाँ मैं यह बताना चाहूंगी की भले ही मैं अच्छी तरह से इंग्लिश पढ़ लेती हूँ, समझ लेती हूँ परधाराप्रवाह धारप्रवाह इंग्लिश बोल पाना मेरे लिए काफी मुश्किल है। तो मन में काफी असमंजस था, उन दिनों मेरा बेटा लंदन में अपनी पढाई कर रहा था और पति को ऑफिस से लम्बी छुट्टी ले पाना मुश्किल था इसलिए मुझे अकेले ही इस सफर को पूरा करना था। 

बेटे ने मेरी समस्या का हल निकाला, उसने बताया की आप लुफ्तांशा एयरलाइन्स में अपना टिकट कराओ, यह एयरलाइन्स भले ही जर्मन की है परन्तु इसमें आपको किसी भी तरह की कोई परेशानी नहीं होगी। आप बस इसी एयरलाइन्स का टिकट कराओ।
बेटे ने इतना जोर देकर कहा तो पति ने लुफ्थांसा एयरलाइन्स का टिकट करा दिया। जैसे-जैसे जाने का वक़्त करीब आ रहा था मन परेशान होते जा रहा था, आठ से दस घंटे का सफर कैसे कटेगा, कोई मेरी बात समझ पायेगा या नहीं वगैरह-वगैरह।
आखिर वो दिन आ ही गया जिस दिन मुझे जाना था, विदेश जाने का उत्साह भी था और डर भी, दिल्ली एयरपोर्ट पर तो कोई परेशानी होनी नहीं थी, अक्सर डोमेस्टिक फ्लाइट में आती जाती थी तो सारी प्रकिर्या मालूम थी। स्व


    अभिवादन बिलकुल  इंडियन 


खाना और पीना :-

फ्लाइट में पहुँचने के  कोई १० मिनट  के बाद एयर होस्टेज मेरे पास आयी और मुझे पानी- नाश्ते वगैरह के लिए पुछा सच बताऊँ जब वो मेरे पास आ रही थी दिल की धड़कन बढ़ गयी थीं, जैसे ही उसने मेरी ही भाषा में जवाब दिया मन से सारी शंकाओं का निवारण हो गया। मेरा डर काफी हद तक निकल गया, फिर जब नाश्ता और साथ में चाय आयी  तो मैं और भी अधिक आश्चर्य से भर गयी पूर्ण रूप से हिंदुस्तानी खाना देखकर बहुत अच्छा लगा की विदेशी एयरलाइन्स में इस तरह से भोजन की व्यवस्था। पूर्ण रूप से इंडियन फ़ूड, घर जैसे खाने की फीलिंग, ऐसा लग रहा था की अपने ही किसी के घर पर बैठ कर खाना खा रही हूँ। बहुत ही खूबसूरत बर्तनों में खाना पेश किया जा रहा था सभी प्रकार के मील की व्यवस्था होती है यदि आप शुगर के मरीज हैं तो उसको देखते हुए आपको भोजन सर्व किया जाता है, अल्कोहलिक-अल्कोहलिक ड्रिंक्स की भी व्यवस्था होती है। बच्चों के लिए मनपसंद मेनू होता है। बिलकुल हिंदुस्तानी भोजन जैसा की इनके इस विज्ञापन में दर्शाया गया है।  



भोजन 

 

मनोरंजन :-

आपके मनोरंजन के लिए आपकी सीट के आगे वाली सीट में टीवी लगा होता है जिसमें आप अपनी मनपसंद मूवी या सीरियल देख सकते हैं, रिमोट आपके हाथ में और मूवी या ड्रामा आपके अनुसार, ऐसा लगेगा ही नहीं की  देश की फ्लाइट में सफर कर रहे हैं। 



मनोरंजन 


बैठने का आराम :-

इकोनॉमी क्लास में भी चेयर एंटी आरामदायक थीं की न ही पैरों में कोई तकलीफ हुई और न ही सोने में किसी प्रकार की असुविधा, एक बार भी कसमकस नहीं हुई उठ कर जाने में। बादलों के बीच घर सा आराम और सुकून।
पूरे सफर में एक बार भी अपने हिंदी भाषी होने पर कोई मलाल नहीं हुआ, जिस तरह से एयरहोस्टेज समय- समय पर आकर हर बात का जवाब दे रही थीं उससे मेरा सारा डर निकल गया, मैं अपने इस सफर को शायद ही कभी भुला पाऊँगी। मेरे जीवन की यह पहली विदेशी यात्रा थी, अब तो बस मन करता है कभी भी कहीं बाहर जाना हो तो बस लुफ्थांसा एयरलाइन्स में ही जाऊँ।


    आरामदायक व्यवस्था 

लुफ्थांसा का अर्थ कुछ इस तरह से है- लुफ्थ --जर्मन शब्द है जिसका अर्थ है हवा , हंस लेटिन शब्द है जिसका अर्थ समूह होता है, इसका स्लोगन "non stop you" काफी पसंद किया जाने वाला स्लोगन है।


मेरा अनुभव बिलकुल ऐसा था जैसा कि इनके नए विज्ञापन में दर्शाया गया है, "जहाँ एक कोच अपनी टीम को हिंदुस्तान के खिलाफ मैच जीतने लिए ये ज्ञान देता है कि तुम्हें हिंदुस्तान से जीतने के लिए उनकी ही तरह खाना-पीना-रहना और सोचना होगा", ये सब करने के पश्चात जब टीम लुफ्थांसा एयरलाइन्स से रवाना होने लगती है तभी उनका एक प्लेयर बोलता है की " सर, क्या हमें उड़ना भी हिन्दुस्तानियों की तरह नहीं चाहिए"
फ्लाइट में घुसते ही एयरहोस्टेज "नमस्ते" से स्वागत करती हुई मिली और जैसे ही वह फ्लाइट में बैठा तो उसे महसूस हुआ  यह एयरलाइन्स तो उसकी सोच से भी अधिक इंडियन है।


     नया विज्ञापन 

मुझे याद है कुछ एक साल पहले इसी एयरलाइन ने एक कॉन्टेस्ट भी ऑर्गेनाइज किया था, "कुक एंड फ्लाई"  जिसमें यह कहा गया था की जिसकी रेसिपी पसंद की जाएगी उसकी रेसिपी को ये अपने मेनू में ऐड करेंगे, क्यूंकि मैं एक फ़ूड ब्लॉगर हूँ सो मैंने भी अपनी रेसिपी भेजी थी, मैंने अपनी  हलवा भेजी थी, वो बात अलग थी कि मेरी रेसिपी का चयन हुआ नहीं, पर आप सब को जानकर आश्चर्य होगा की प्रथम स्थान पाने वाली "नंदिनी दिवाकर" लखनऊ शहर की एक बहुत ही छोटे से परिवार की पूर्णतया हिंदीभाषी लड़की थी, जो की यह दर्शाता है की इस एयरलाइन्स के लिए भाषा, देश या व्यक्ति विशेष मायने नहीं रखता, ये अपनी गुणवत्ता, और सेवा में विश्वास रखने वाली एक ऐसी विदेशी फ्लाइट है, जो की यूरोप में अत्यधिक मात्रा में हवाई जहाज रखने वाली सबसे बड़ी एयरलाइन्स है।


कोई भी अगर कहीं विदेश जाने की सोच रहा होता है तो, मैं सबसे पहले उसे लुफ्थांसा का नाम ही सुझाती हूँ, यह एक ऐसी विदेशी एयरलाइन्स है, जिसमें बिना किसी असुविधा के सफर पूरा किया जा सकता है, और अधिक जानकारी के लिए आप इनकी वेबसाइट पर विजिट कर सकते है:- Lufthansa-More Indian than you think!