Pageviews past week

Tuesday, May 16, 2017

Home made sattu/ घर पर बनाएं सत्तू






Sattu is prepared by dry roasting grains or grams, mainly barley or bengal gram, The dry powder is prepared in various ways as a principal or secondary ingredient of dishes. Mainly sattu is used in regional cuisine. In bihar, sattu is commonly served cold for breakfast as soft dough. It is used for liiti stuffing also.


सत्तू या तो जौ और चने से बनाया जाता है या फिर कुछ लोग इसे मक्के से भी बनाते हैं  पर गर्मियों के लिए जौ  बहुत ही लाभदायक होता है, इसे और भी कई रेसिपीज में इस्तेमाल किया जाता है।  बिहार में तो सत्तू का नास्ता काफी प्रसिद्द है।  वहां इसे नमक, मिर्च और पानी के साथ  मिलाकर सुबह नास्ते में लिया जाता है. यूँ तो सत्तू की ड्रिंक काफी अच्छी लगती है आप चाहे इसे दही के साथ या फिर खाली  पानी के साथ भी बना सकते हैं, इसके आलावा इसे कचौड़ी, पराठा में भी भरकर बनाया जाता है,  प्रसिद्द लिट्टी में सत्तू भरकर ही बनाया जाता है।  इसे घर पर बनाना बहुत ही आसान है।


Preparation time--- 20 minutes
Cooking time --30 minutes


सामिग्री:-



  1. जौ २५० ग्राम 
  2. भुना हुआ चना छिलका रहित २५० ग्राम 

विधि:-


  1. एक भरी तले का बर्तन गरम करके इसमें जौ को बहुत ही धीमी आंच पर कम से कम १५ मिनट के लिए भून लें (आप देखेंगे जौ थोड़े-थोड़े फटने से लगेंगे). 
  2. अब मिक्सी में चने के साथ महीन पाउडर बना,  लें छन्नी से छान कर  टाइट जार में रखें।
  3. आप इससे चाहें तो सत्तू के पराठे, सत्तू की कचौड़ी, या फिर लिट्टी बना सकते हैं, गर्मियों में सत्तू की ठंडी ड्रिंक भी बना सकते हैं।  


                                                 

                                                   Recipe in English 

Ingredients :-


  1. Jau/ Barley 250 gm.
  2. Roasted chana withour skin 250 gm

Method:-



  1. Heat a heavy bottom pan or kadhai, then dry roast the jau on slow flame. It will take about 15 minutes.
  2. Cool and grind with chana into the fine powder in mixer grinder, sieve and keep in air tight jar.
  3. You can make sattu drink, sattu ki kachaori, sattu ka paratha and litti also.

Friday, May 5, 2017

My Plattershare Feedback




                Complete food Networking Website for Food Bloggers, Chefs, Foodbusinesses and Food Stories 






It's been almost two years since I joined plattershare, as suggest by an another food blogger. I have heavily benefited by connecting to plattershare and am sure the same would continue to happen in the future.
Plattershare happens to be a platform where you can find innovative recipes, know about healthy and delicious food as well as get to know home chefs and their cooking methods. Plattershare provides a impeccable platform for home cooks to be known to the world along with their interesting ideas for delicious recipes.


On plattershare, home cooks such as my self, can share their recipes and show off their talent for cooking without any hesitation. It also gives us an opportunity to share our personal cooking stories.
Plattershare is administered in an impeccable manner by Mr. Ankush Dhiman and Kirti Yadav.
To keep the home chefs hooked , every week there is a special themed competition on Plattershare, where upon winning the same, the winner is awarded with hefty prizes.
Besides the weekly competitions, Plattershare also hosts big competitions which is usually judged by most famous and successful chefs in India, boosting the home chefs to cook innovative recipes.
The three most exciting features on Plattershare for me are;
1) Weekly recipe themed contest, which I happen to win once.
2) Contributor of the week, also which I happen to win once.
3) BellyNirvana Program, through which some handful of home chefs receive organic ingredients from BellyNirvana using which they cook innovative recipes and posted them on Plattershare , sharing their reviews. This program stand out from any other cooking program as it introduces home chefs like myself to the organic products, making our lifestyle and eating habits healthier.



The tasty likes and delicious comments received on our posts (on Plattershare) by other bloggers boosts our confidence and motivates us to introduce innovation in our daily cooking.
One of the best and probably the most important element of plattershare is the fact that it restricts plagiarism and ensures that the credit for recipes posted by home chefs is owned to them only.
What I would like to see, if possible, on plattershare is for them to conduct cooking classes on certain intervals so the fellow home chefs would get to meet in person and more people would join this lovely platform.
Also, there should be more programs like BellyNirvana, if not about organic food products then something else so we the home chefs would learn something and take a step ahead towards healthy lifestyle.
I, from the depths of my heart, would want to thank Mr. Ankush Dheiman and Ms. Kirti Yadav for giving us, the home chefs, a platform so surreal that we could also be known and know our talents, find the creativity inside our self's and learn form each other sitting miles away.

Friday, April 28, 2017

Moong Dal Kulfi/ मूंग दाल कुल्फी




Arrival of summers means cool-cool kulfi, ice-cream, cold drinks, shikanji etc. Because of the hot winds, the body starts dehydrating, thus consumption of more water and cold things becomes necessary to keep it hydrated. Kulfi is one of the loved desserts in summer, and it is made by adding dry fruits or mawa etc. to the milk, but here I made the kulfi from Dhuli Moong Dal which turned out to be delicious. It does not require too many ingredients and yet was the best in taste.


गर्मियां मतलब ठंडी- ठंडी कुल्फी, आइस-क्रीम, शरबत, ठंडाई वगैरह  मौसम.  अधिक गरम हवाओं की वजह से शरीर का पानी कम होने लगता है ऐसे में अधिक पानी और ठंडी चीज़ों के सेवन का मन करता है. गर्मियों में कुल्फी सबसे अधिक पसंद किया जाने वाला डिजर्ट है, और यूँ तो कुल्फी दूध को गाढ़ा करके इसमें मेवा या फल मिलाकर बनाया जाता है लेकिन यहाँ मैंने धुली मूंग दाल से कुल्फी बनायीं जो की स्वाद में तो बेहतरीन है ही साथ में मूंग दाल सेहतमंद भी होती है इसके लिए बहुत अधिक सामिग्री की आवश्यकता नहीं है। आप विश्वास करें इसका स्वाद बेहतरीन था।


Preparation Time---25 minutes
Cooking time--45 minutes
Serves ---4

सामिग्री;-

  1. फुल क्रीम दूध १ लीटर 
  2. धूलि मूंग दाल १/१/२ बड़ा चम्मच 
  3. मिल्क मेड १/२ टिन 
  4. इलाइची २  नग 
  5. पीला खाने वाला रंग 1/२ छोटा चम्मच 
  6. खरबूजे के बीज १/२ कप 
  7.  देशी घी २ बड़े चम्मच 
  8. बारीक कटे काजू १ बड़ा चम्मच जरूरतनुसार 


विधि;-


  1. सबसे पहले दाल को धोकर १० मिनट के लिए भिगो दें, खरबूजे के बीज को सूखा ही पैन  में भून लें और अलग रखें। 
  2. अब  पैन में घी को गरम करें लगातार  चलाते हुए दाल को हलकी गुलाबी हो जाने तक भून लें ताकि दाल की महक जाये अब दाल को निकाल लें और गैस बंद कर दें। 
  3. अब दाल, खरबूजे के बीज और इलाइची को थोड़े से पानी के साथ मिक्स में महीन पेस्ट बना लें। 
  4. एक भारी तले के बर्तन में दूध को चढ़ा दें एक उबाल आने पर इसमें दाल का पेस्ट, काजू और पीला रंग डालें, बहुत धीमी आंच पर लगातार चलाते हुए मिश्रण के गाढ़ा होने तक पकाएं अब इसमें मिल्क मेड डालें और मिश्रण को अच्छी तरह से मिलाकर गैस बाद कर दें,  मिश्रण को छानकर   ठंडा करें। 
  5.  कुल्फी के मोल्ड में डालकर ४ से ६ घंटे के लिए फ्रीज करें। 
  6. निकाल कर  ठंडा -ठंडा सर्व करें। 

नोट;- आप चाहें तो बारीक कटे पिस्ते भी डाल सकते है। 


                                                 Recipe in English 


Ingredients:-



  1. Dhuli moong dal 1/1/2 tbsp
  2. Full cream milk 1 liiter
  3. Milk made 1/2 tin
  4. Green cardamom 2 no
  5. Yellow food color 1/2 tsp 
  6. Desi ghee 2 tbsp
  7. Melon seeds 1/2 cup
  8. Chopped cashew nut 1 tbsp optional 



Method:-



  1. Wash and soak the dal for 10 minutes and then drain the water, dry roast the melon seeds then keep aside.
  2. Heat the ghee in a pan then fry the dal till it becomes light golden, so the dal doesn't smell anymore. Turn off the gas.
  3. Now make a smooth paste with melon seeds, cardamom  and dal by adding little water.
  4. Put the milk in a heavy bottom pan, bring it to a boil then add the paste, cashew nut and yellow food color, turn the heat on sim, Stir continuously and cook until the mixture gets thick, add milk made and mix well. Turn of the gas.  strain the mixture. 
  5. Cool and pour into the mold, refrigerate it for 4 to 6  hours.
  6. Serve chilled.


Note ;- You can also add some chopped pistachio.


























Sunday, April 23, 2017

My more than Indian experience!

अपने ही विचारों की अभिव्यक्ति का कोई बेहतर  तरीका है वो है ब्लॉगिंग और ब्लॉग को ज्यादा से ज्यादा लोगों के पास पहुँचाने के लिए बेहतर मंच है इंडीब्लॉगर। यह एक ऐसी वेबसाइट है जहाँ हम अपने ब्लॉग की पोस्ट को शेयर करते हैं दूसरों के ब्लॉग की पोस्ट और उनके वीडिओ देख पाते हैं, एक दुसरे के साझा किये हुए विचारों पर अपने विचार व्यक्त का कर पाते हैं।


मैंने जब अपना ब्लॉग लिखना शुरू किया था उसी समय किसी और के द्वारा इंडीब्लॉगर के लिए बताने पर मैंने भी इसे ज्वाइन किया।
ज्यादा से ज्यादा लोगों के संपर्क में हम सब आ पाएं इसके लिए समय-समय पर इंडीब्लॉगर की ओर से मीटिंग्स भी आयोजित की जाती रही हैं. मुझे इंडीब्लॉगर के संपर्क में आये हुए दो से ढाई वर्ष हुए हैं, मुझे अपने आप को और अपने व्यक्तित्व को संवारने में इंडीब्लॉगर का काफी योगदान है।
कल जब मैंने इंडी पेज खोला तो पाया यहाँ एक प्रतियोगिता आयोजित  की गयी है, इस पेज पर पहली बार कोई प्रतियोगिता मेरे सामने आयोजित की गयी है और जब इसका सब्जेक्ट देखा तो बहुत ख़ुशी हुई की मुझे सच में अपने अनुभव को पेश करने का इससे बेहतर तरीका कोई और हो ही नहीं सकता था। मैं सोचती थी कभी किसी प्रतियोगिता में आपके सफर के बारे में भी लिखने का अवसर मिलेगा।
यहाँ मैं अपना अनुभव लुफ्तांशा एयरलाइन्स का प्रस्तुत करने जा रही हूँ, यह मेरा सौभाग्य था, कि मैंने इस एयरलाइन्स में सफर करने का अनुभव  प्राप्त किया।

बात आज से करीब नौ-दस महीने पहले की है मेरी ननद जो की जर्मनी के म्यूनिख शहर में रहती है, उनके बेटे का विवाह होने को था और हमारा जाना भी जरूरी था, जब करीबी रिश्तों की बात आती है तब पैसा और समय मायने नहीं रखता सो जाना तो जरूर था, मुझे याद है जब वो शादी के बाद अपने पति के साथ वहां शिफ्ट हुई और फिर पहली बार इंडिया आयी थी तो बेटे के लिए प्ले-स्टेशन लायी तो ख़ुशी का ठिकाना न था। खैर शादी में जाना था और तैयारी भी करनी थी तो यादों को दरकिनार कर जाने की तैयारी के बारे में बात शुरू हुई।
उधर से नन्द ने वीज़ा आदि की प्रकिर्या पूरी करा दी थी। अब मुझे टिकट और अपने सफर की बाकि तैयारी करनी थी। अब मेरे लिए दो समस्याएं थीं कारण मैं हिचक रही थी एक तो भाषा और दूसरा भोजन, मैं पूरी तरह से वेजिटेरिअन हूँ।
यहाँ मैं यह बताना चाहूंगी की भले ही मैं अच्छी तरह से इंग्लिश पढ़ लेती हूँ, समझ लेती हूँ परधाराप्रवाह धारप्रवाह इंग्लिश बोल पाना मेरे लिए काफी मुश्किल है। तो मन में काफी असमंजस था, उन दिनों मेरा बेटा लंदन में अपनी पढाई कर रहा था और पति को ऑफिस से लम्बी छुट्टी ले पाना मुश्किल था इसलिए मुझे अकेले ही इस सफर को पूरा करना था। 

बेटे ने मेरी समस्या का हल निकाला, उसने बताया की आप लुफ्तांशा एयरलाइन्स में अपना टिकट कराओ, यह एयरलाइन्स भले ही जर्मन की है परन्तु इसमें आपको किसी भी तरह की कोई परेशानी नहीं होगी। आप बस इसी एयरलाइन्स का टिकट कराओ।
बेटे ने इतना जोर देकर कहा तो पति ने लुफ्थांसा एयरलाइन्स का टिकट करा दिया। जैसे-जैसे जाने का वक़्त करीब आ रहा था मन परेशान होते जा रहा था, आठ से दस घंटे का सफर कैसे कटेगा, कोई मेरी बात समझ पायेगा या नहीं वगैरह-वगैरह।
आखिर वो दिन आ ही गया जिस दिन मुझे जाना था, विदेश जाने का उत्साह भी था और डर भी, दिल्ली एयरपोर्ट पर तो कोई परेशानी होनी नहीं थी, अक्सर डोमेस्टिक फ्लाइट में आती जाती थी तो सारी प्रकिर्या मालूम थी। स्व


    अभिवादन बिलकुल  इंडियन 


खाना और पीना :-

फ्लाइट में पहुँचने के  कोई १० मिनट  के बाद एयर होस्टेज मेरे पास आयी और मुझे पानी- नाश्ते वगैरह के लिए पुछा सच बताऊँ जब वो मेरे पास आ रही थी दिल की धड़कन बढ़ गयी थीं, जैसे ही उसने मेरी ही भाषा में जवाब दिया मन से सारी शंकाओं का निवारण हो गया। मेरा डर काफी हद तक निकल गया, फिर जब नाश्ता और साथ में चाय आयी  तो मैं और भी अधिक आश्चर्य से भर गयी पूर्ण रूप से हिंदुस्तानी खाना देखकर बहुत अच्छा लगा की विदेशी एयरलाइन्स में इस तरह से भोजन की व्यवस्था। पूर्ण रूप से इंडियन फ़ूड, घर जैसे खाने की फीलिंग, ऐसा लग रहा था की अपने ही किसी के घर पर बैठ कर खाना खा रही हूँ। बहुत ही खूबसूरत बर्तनों में खाना पेश किया जा रहा था सभी प्रकार के मील की व्यवस्था होती है यदि आप शुगर के मरीज हैं तो उसको देखते हुए आपको भोजन सर्व किया जाता है, अल्कोहलिक-अल्कोहलिक ड्रिंक्स की भी व्यवस्था होती है। बच्चों के लिए मनपसंद मेनू होता है। बिलकुल हिंदुस्तानी भोजन जैसा की इनके इस विज्ञापन में दर्शाया गया है।  



भोजन 

 

मनोरंजन :-

आपके मनोरंजन के लिए आपकी सीट के आगे वाली सीट में टीवी लगा होता है जिसमें आप अपनी मनपसंद मूवी या सीरियल देख सकते हैं, रिमोट आपके हाथ में और मूवी या ड्रामा आपके अनुसार, ऐसा लगेगा ही नहीं की  देश की फ्लाइट में सफर कर रहे हैं। 



मनोरंजन 


बैठने का आराम :-

इकोनॉमी क्लास में भी चेयर एंटी आरामदायक थीं की न ही पैरों में कोई तकलीफ हुई और न ही सोने में किसी प्रकार की असुविधा, एक बार भी कसमकस नहीं हुई उठ कर जाने में। बादलों के बीच घर सा आराम और सुकून।
पूरे सफर में एक बार भी अपने हिंदी भाषी होने पर कोई मलाल नहीं हुआ, जिस तरह से एयरहोस्टेज समय- समय पर आकर हर बात का जवाब दे रही थीं उससे मेरा सारा डर निकल गया, मैं अपने इस सफर को शायद ही कभी भुला पाऊँगी। मेरे जीवन की यह पहली विदेशी यात्रा थी, अब तो बस मन करता है कभी भी कहीं बाहर जाना हो तो बस लुफ्थांसा एयरलाइन्स में ही जाऊँ।


    आरामदायक व्यवस्था 

लुफ्थांसा का अर्थ कुछ इस तरह से है- लुफ्थ --जर्मन शब्द है जिसका अर्थ है हवा , हंस लेटिन शब्द है जिसका अर्थ समूह होता है, इसका स्लोगन "non stop you" काफी पसंद किया जाने वाला स्लोगन है।


मेरा अनुभव बिलकुल ऐसा था जैसा कि इनके नए विज्ञापन में दर्शाया गया है, "जहाँ एक कोच अपनी टीम को हिंदुस्तान के खिलाफ मैच जीतने लिए ये ज्ञान देता है कि तुम्हें हिंदुस्तान से जीतने के लिए उनकी ही तरह खाना-पीना-रहना और सोचना होगा", ये सब करने के पश्चात जब टीम लुफ्थांसा एयरलाइन्स से रवाना होने लगती है तभी उनका एक प्लेयर बोलता है की " सर, क्या हमें उड़ना भी हिन्दुस्तानियों की तरह नहीं चाहिए"
फ्लाइट में घुसते ही एयरहोस्टेज "नमस्ते" से स्वागत करती हुई मिली और जैसे ही वह फ्लाइट में बैठा तो उसे महसूस हुआ  यह एयरलाइन्स तो उसकी सोच से भी अधिक इंडियन है।


     नया विज्ञापन 

मुझे याद है कुछ एक साल पहले इसी एयरलाइन ने एक कॉन्टेस्ट भी ऑर्गेनाइज किया था, "कुक एंड फ्लाई"  जिसमें यह कहा गया था की जिसकी रेसिपी पसंद की जाएगी उसकी रेसिपी को ये अपने मेनू में ऐड करेंगे, क्यूंकि मैं एक फ़ूड ब्लॉगर हूँ सो मैंने भी अपनी रेसिपी भेजी थी, मैंने अपनी  हलवा भेजी थी, वो बात अलग थी कि मेरी रेसिपी का चयन हुआ नहीं, पर आप सब को जानकर आश्चर्य होगा की प्रथम स्थान पाने वाली "नंदिनी दिवाकर" लखनऊ शहर की एक बहुत ही छोटे से परिवार की पूर्णतया हिंदीभाषी लड़की थी, जो की यह दर्शाता है की इस एयरलाइन्स के लिए भाषा, देश या व्यक्ति विशेष मायने नहीं रखता, ये अपनी गुणवत्ता, और सेवा में विश्वास रखने वाली एक ऐसी विदेशी फ्लाइट है, जो की यूरोप में अत्यधिक मात्रा में हवाई जहाज रखने वाली सबसे बड़ी एयरलाइन्स है।


कोई भी अगर कहीं विदेश जाने की सोच रहा होता है तो, मैं सबसे पहले उसे लुफ्थांसा का नाम ही सुझाती हूँ, यह एक ऐसी विदेशी एयरलाइन्स है, जिसमें बिना किसी असुविधा के सफर पूरा किया जा सकता है, और अधिक जानकारी के लिए आप इनकी वेबसाइट पर विजिट कर सकते है:- Lufthansa-More Indian than you think!



Thursday, March 30, 2017

sabudana , beetroot tikki / साबूदाना और चुकंदर की टिक्की




Soaking time---4 hours
Preparation time----20 minutes
Cooking time--45 minutes
Serves -4

Just added a healthy ingredient in my sabudana vada and the taste is yumm, normally we make the sabudana vada in fasting days with potato, sabudana, spices, coriander, chili and peanuts. but here i gave a healthy twist and added beetroot in my sabudana vada. The taste is better than plane sabudana vada.


सामिग्री-----



  1. साबूदाना २ कप
  2. उबला हुए आलू २ बड़े
  3. चुकंदर १ बड़ा
  4. सेंधा नमक स्वादनुसार
  5. बारीक कटी हरी मिर्च २ बड़े चम्मच
  6. बारीक कटी हरी धनिया २ बड़े चम्मच
  7. लाल मिर्च पाउडर १ छोटा चम्मच
  8. अमचूर पाउडर १ छोटा चम्मच
  9. नीबू का रस १ छोटा चम्मच 
  10. क्रस्ड मूंगफली १/२ कप 
  11. मखाना पाउडर २ बड़े चम्मच 
  12. जीरा १ छोटा चम्मच 
  13. घी १ बड़ा चम्मच 
  14. तेल तलने के लिए 

परोसने के लिए---- हरी चटनी 



बनाने की विधि--------



  1. साबूदाना कम से कम ४ घंटे के लिए भिगो दें। 
  2. चुकंदर को अच्छे से धोकर छिलका उतारें और फिर से धोकर दो हिस्सों में काट लें और १५ मिनट के लिए उबाल लें, अब इसे ठंडा होने पर कद्दूकस कर लें.
  3. आलू का छिलका उतारकर कद्दूकस कर लें। 
  4. एक बर्तन में घी गरम करें और जीरा चटका लें इसमें कद्दूकस किया चुकंदर डालकर लगातार चलाते हुए सारा पानी सूख जाने तक भून लें। 
  5. अब एक बर्तन में साबूदाना, आलू, चुकंदर, नमक, लाल मिर्च, हरी मिर्च, धनिया, नीबू का रस, अमचूर पाउडर, मूंगफली और मखाना पाउडर अच्छी तरह से मिलाकर मिश्रण से टिक्की बना लें। 
  6. बर्तन में तेल गरम करें और टिक्की को कुरकुरा हो जाने तक मध्यम आंच पर तल लें. 
  7. गरमागरम हरी चटनी के साथ परोसें। 


 नोट---- साबूदाना हमेशा उतने ही पानी में भिगोएं जितने में वह डूब जाये अन्यथा टिक्की अच्छी नहीं बनेगी ।




                                                             Recipe in English
                                                       -----------------------------------

Ingredients ------



  1. Sabudana 2 cup
  2. Boiled potato 2 large no.
  3. Beetroot 1 large
  4. Sendha salt to taste
  5. Chopped green chili 2 tbsp
  6. Chopped coriander 2 tbsp
  7. Red chili powder 1 tsp
  8. Dry mango powder 1 tsp
  9. Lemon juice 1 tsp
  10. Crushed peanuts 1/2 cup
  11. Powdered makhana 2 tbsp
  12. Cumin 1 tsp
  13. Ghee 1 tbsp
  14. Oil for frying



For serving --green chutney



Method------


  1. Wash and soak the sabudana for 4 hours.
  2. Peel wash and cut into two the beetroot then boil it for 15 minutes, Cool and grate the beet.
  3. Peel and grate the potato,
  4. Heat the ghee in a pan add cumin as they crackle add boiled and grated beetroot stir continuously and Cook until the extra water evaporates. cool it.
  5. Now mix soaked sabudana, potato, salt, beetroot, coriander, chili, red chili, lemon juice, dry mango powder, peanuts and powdered makhana, Mix well and make the tikki with the mixture.
  6. Heat the oil reduce the flame on medium hot, Fry the vada till golden and crisp.
  7. Serve hot with green chutney.






Note ---Soak sago always in the water as much as the sago sinks, the sago will become wet with more water and the tikki will not become good. 

========================================================================================================

Friday, March 17, 2017

Lauki aur Mangodi ki sabji/ लौकी और मूंग दाल वड़ी की सब्जी

------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

     preparation time----25 minutes
     cooking time 35 minutes
     serves---4


 Bottle Gourd and moong dal Vadi's vegetable is made in North India and is a favorite vegetable, mostly in Lucknow and Kanpur, it is made more during the rainy days. It is mostly made with Urad Dal Vadi but the Moong Dal is also very good with Wadi, it is a very simple and easy-to-use vegetable. It also does not require many ingredients.
I will make it with the moong dal wad made at home, if you wish, you can also make it from the market with the ladhi wadi, the time when the gourd is very soft and fresh, then this vegetable becomes very good, gourd sweetness makes  its taste doubles.



लौकी और मूंग दाल वड़ी की सब्जी उत्तर भारत में बनायीं और पसंद की जाने वाली सब्जी है,ज्यादातर लखनऊ और कानपूर में इसे बारिश के दिनों में अधिक बनाया जाता है।  यूँ तो इसे अधिकतर उरद दाल वड़ी के साथ बनाया जाता है पर मूंग दाल वड़ी के साथ भी काफी अच्छी लगती है, यह बहुत ही सिंपल और आसानी से बन जाने वाली सब्जी है इसमें बहुत साडी सामिग्री की आवश्यकता भी नहीं पड़ती है.
मैं तो इसे घर पर बनायीं गयी मूंग दाल वड़ी के साथ बनाती हूँ आप चाहें तो बाजार से लायी वड़ी के साथ भी बना सकते हैं, जिस समय लौकी काफी मुलायम और ताज़ी मिलती है उस समय यह सब्जी बहुत अच्छी बनती है, लौकी की मिठास के कारण इसका स्वाद दुगना हो जाता है.


 सामिग्री-------


  1. लौकी १ बड़ी 
  2. मूंग दाल की वड़ी १ कटोरी 
  3. अदरक की पेस्ट १ छोटा चम्मच 
  4. प्याज़ की पेस्ट २ बड़े चम्मच 
  5. उबले और बारीक कटे टमाटर १ कप 
  6. नमक स्वादानुसार 
  7. लाल मिर्च पाउडर २ छोटे चम्मच 
  8. हल्दी पाउडर २ छोटे चम्मच 
  9. धनिया पाउडर १ बड़ा चम्मच 
  10. हींग १/२ छोटा चम्मच 
  11. देशी घी २ बड़े चम्मच 
  12. सरसों का तेल ३ बड़े चम्मच 
  13. जीरा १ छोटा चम्मच 
  14. धनिया पत्ती सजाने के लिए 



विधि--------


  1. सबसे पहले लौकी को छीलकर धो लें और छोटे टुकड़ों में काट लें, पानी में रख दें अन्यथा काली पड़  जाएगी।
  2. अब देशी घी किसी पैन में गरम करके वडीयों को सुनहरा हो जाने तक फ्राई कर लें। 
  3. कुकर में तेल गरम करें और जीरा भून कर प्याज़ और अदरक की पेस्ट को सुनहरा भून लें। 
  4. अब इसमें हल्दी पाउडर, लाल मिर्च पाउडर, धनिया पाउडर, नमक और हींग डालें चलाते हुए २ मिनट के लिए पकाएं. 
  5. अब टमाटर डालें साथ ही १/२ कप पानी डालकर मसाले को तेल  छोड़ने तक पका लें। 
  6. अब वड़ी और लौकी डालें मिला लें और १/१/२ ग्लास पानी डालकर एक उबाल आने दें, अब आंच को धीमा करें ढककर २० मिनट तक पकाएं।  
  7. गैस बंद करें, धनिया से सजा कर गर्मागरम रोटी, पराठा या चावलों के साथ परोसें साथ ही सलाद के रूप में अलगजा परोसें (अलगजा बहुत ही पतली स्लाइस की हुई प्याज़ में नीबू का रस, नमक, भुना जीरा पाउडर, काली मिर्च पाउडर मिलाकर बनायीं गयी सलाद को कहते हैं )



-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

                                      Recipe in English 

Ingredients ---


  1. Bottle guard / lauki1 large size
  2. Moong dal vadiyan 1 bowl
  3. Ginger paste 1 tsp
  4. onion paste 2 tbsp
  5. Boiled and chopped tomatoes 1 cup
  6. Salt as per taste
  7. Red chili powder 2 tsp
  8. Turmeric powder 2 tsp
  9. Coriander powder 1 tbsp
  10. Heeng 1/2 tsp
  11. Deshi ghee 2 tbsp
  12. Mustard oil 3 tbsp
  13. Cumin seeds 1 tsp
  14. Coriander leaves for garnish


Method--------



  1. Peel wash and cut into small deices the lauki put in water.
  2. Heat the ghee in a pan then fry the vadiyan till golden.
  3. Now heat the oil in pressure cooker crackle the cumin, add onion and ginger paste saute till the onion becomes golden brown.
  4. Add turmeric powder, red chili powder, coriander powder and salt, heeng, stir and cook it for couple of minutes.
  5. Now add chopped tomatoes mix well add 1/2 cup water and cook the spices till oil separates.
  6. Add lauki and vadi mix well add 1/1/2 glass water, After a boil reduce the heat on sim, cover and cook for 20 minutes.
  7. Switch off gas, garnish with coriander leaves.
  8. Serve hot with chapati, paratha or boiled rice along with Algaja ( Algaja a salad prepare with thinly sliced onion, cumin powder, black pepper powder, salt and lemon juice). 

नोट----अगर आप कुकर बंद करके बना रहे हैं तो इसे सिर्फ धीमी आंच पर १० मिनट के लिए पकाएं।
Note ---  If you want to put the lid of the cooker in that case cook on slow flame for 10 minutes.





Thursday, March 9, 2017

Murg Badami/ मुर्ग बादामी




Badami murg is Almond base gravy dish which is made with almond and poppy seeds paste,  flavored with cardamom powder and whole spice powder.
This is an easy but creamy and spicy gravy based chicken recipe. Best goes with laccha paratha.
Usually cook with sliced onions but I used boiled onion  puree that gives a nice creamy taste. You can use sliced onions or simple onion paste.




preparation time---60 to 70 minutes
cooking time--- 25 minutes
serves---4

सामिग्री-----



  1. चिकेन १ किलो 
  2. उबाला  हुआ बादाम ३० नग 
  3. उबली हुई प्याज़ की पेस्ट ४ बड़े चम्मच 
  4. अदरक और लहसुन की पेस्ट १/१/२ बड़ा चम्मच 
  5. लाल मिर्च पाउडर २ छोटे चम्मच 
  6. कश्मीरी लाल मिर्च ४ नग 
  7. हल्दी पाउडर १/२ छोटा चम्मच 
  8. नमक स्वादानुसार 
  9. भीगा हुआ पोस्तादाना/ खसखस  ४ बड़े चम्मच 
  10. दालचीनी २ टुकड़े 
  11. लौंग ६ नग 
  12. तेज़ पत्ता १ नग 
  13. हरी इलाइची पाउडर १ बड़ा चम्मच 
  14. सफ़ेद मिर्च साबुत १ छोटा चम्मच 
  15. जीरा १/४ छोटा चम्मच 
  16. दही १ कप 
  17. देशी घी ४ बड़े चम्मच 
  18. ताज़ी क्रीम १ बड़ा चम्मच 
  19. सजाने के लिए हरा धनिया 


बनाने की विधि--------


  1. बादाम को छीलकर रखें और ५ बादाम को पतली स्लाइस में काट कर अलग सजाने के लिए रख दें।  
  2. अब जीरा, सफ़ेद मिर्च, कश्मीरी लाल मिर्च, दालचीनी और लौंग को सूखा ही पैन में गरम कर लें फिर इसका महीन पाउडर बना कर रखें। 
  3. मुर्ग को साफ़ करके धो लें और एक बड़े बर्तन में रखें इसमें दही, अदरक, लहसुन की पेस्ट, १ चम्मच लाल मिर्च का पाउडर, नमक और हल्दी पाउडर डालकर अच्छी तरह से मिलकर १/२ घंटे के लिए रख दें। 
  4. खसखस और बादाम की महीन पेस्ट बना लें। 
  5. अब एक भरी तले के बर्तन में घी गरम करें इसमें प्याज़ की पेस्ट को गुलाबी हो जाने तक भूनें, तेज़ पत्ता और मैरिनेड किया हुआ मुर्ग, बची हुई लाल मिर्च पाउडर  डालें अच्छी तरह से मिला लें, गैस को धीमी करके ५ मिनट के लिए ढककर पकाएं। 
  6. अब बादाम की पेस्ट और १ ग्लास पानी डालकर ढक्कन लगा दें, १० मिनट के लिए पका लें। 
  7. क्रीम मिला लें और गैस बंद कर दें. 
  8. धनिया पत्ती और स्लाइस किये बादाम से सजा कर गर्मागरम लच्छा पराठा या फिर चपाती के साथ परोसें। 



Ingredients--


  1. Chicken 1 kg
  2. Blanched almonds 30
  3. Boiled onion paste 4 tbsp
  4. Ginger, Garlic paste 1/1/2 tbsp
  5. Red chili powder 2 tsp
  6. kashmiri red chili 4 no 
  7. Turmeric powder 1/2 tsp
  8. Salt to taste
  9. Soaked poppy seeds 4 tbsp
  10. Cinnamon 2 sticks
  11. Cloves 6
  12. Bay leaf 1 no.
  13. Green cardamom powder 1 tbsp
  14. White peppercorns 1 tsp
  15. Cumin seeds 1/4 tsp
  16. Curd 1 cup
  17. Ghee 4 tbsp
  18. Fresh cream 1 tbsp optional
  19. Coriander leaves for garnishing


Method-------


  1. Peel the blanched almonds. Finely slice 5 almonds, reserve for garnish.
  2. Dry roast the cloves, white peppercorns, kashmiri red chili, cinnamon, cumin seeds, cool and grind to a fine powder.
  3. Clean and wash the chicken. Put it into a large bowl, add curd, ginger, garlic paste, 1 tsp red chili powder, salt and turmeric powder, mix well and keep aside for 1/2  hour or mean while to cook.
  4. Grind together soaked poppy seeds and blanched almonds, make a smooth, fine paste.
  5. Heat ghee in a heavy bottom pan, add onion paste, saute till lightly browned, add bay leaf and marinated chicken, remaining red chili powder and ground powder, mix well, turn the heat on sim, cover and cook for 5 minutes.
  6. Add ground almond mixture and 1 glass of water, cover and cook for 10 minutes.
  7. add cream, mix well, switch off the gas.
  8. Garnish with almonds slivers and coriander, serve hot with laccha paratha or chapati.