Pageviews past week

Tuesday, November 12, 2013

singhade ka achaar/ सिंघाड़े का अचार


ठण्ड के दिनों में मिलने वाला यह फल अधिकतर लोगों को पसंद आता है ,इसके आटे की पूरी और हलवा व्रत के दिनों में ज्यादातर खाया जाता है ,मेरा पसंदीदा फल है और इसका अचार तो बहुत ज्यादा अच्छा लगता है ,हाँ ये बात अलग है कि इस अचार को बहुत दिनों तक रखा नहीं जा सकता, पर पराठों के साथ खाने में बहुत अच्छा लगता है।
this fruit, which is cultivated in winter, is liked by many and goes by the name of singhada. It is usually consumed in fast in the form of Halwa and puri made from its flour. This fruit happens to be my favorite and like wise the pickle of this fruit which tastes great with pranthas, however the pickle cannot be preserved for long. Singhade also taste great with jaggary and likewise for boiled singhade with green garlic chutney.

सामिग्री --

  • सिंघाड़े १ किलो  .
  • नमक  २ बड़े चम्मच 
  • हल्दी पाउडर २ बड़े चम्मच 
  • लाल मिर्च पाउडर १ बड़ा चम्मच
  • सौंफ पाउडर २ बड़े चम्मच 
  • राई पाउडर १ बड़ा चम्मच 
  • चीनी १ छोटा चम्मच 
  •  सरसों का तेल २ बड़े चम्मच या १ कप। 
  • सिरका  १ छोटा चम्मच 

Ingredients -----

  • Singhade 1 kg . 
  • Salt 2 tbsp  . 
  • Turmeric powder 2 tbsp . 
  • Red chili powder 1 tbsp . 
  • Mustard seeds powder 1 tbsp . 
  • Fennel powder 2 tbsp
  • Sugar  1 tsp . 
  • Oil 2 tbsp or one cup 
  • Vinegar 1 tsp . 

विधि------

  • सिंघाड़े की नोक(नुकीला हिस्सा ) को तोड़ कर धो लें और बीच से आधा काट लें। 
  • अब १ ग्लास पानी के साथ १० मिनट खुले बर्तन में उबाल कर छाननी में रख दें ताकि अतिरिक्त पानी निकल जाये। 
  • १ घंटे के लिए खुली जगह पर फैला दें। 
  • अब इसमें सारी सामिग्री को अच्छी तरह से मिला दें। 
  • २ दिन के लिए धूप में रखें ,अचार खाने के लिए तैयार है खुद खाइये और सबको खिलाइये।  

method ---

  • peel the pointed sides ,wash and cut into two.
  • now boil it with  a glass of water for 10 to 12 minute ,cool and keep in strainer. 
  • lay it in an open space for 1 hour
  • now take a large bowl and mix well all ingredients.
  • keep the jar in sun light for 2 days and it's ready for serving.

note ---इस अचार को अधिक दिनों तक नहीं रखा जा सकता अतः अधिक मात्रा में न बनाएं .

 Note---as the this pickle cannot be preserved for long, it is suggested that one should prepare small quantity of the same.